भारत के दस ऐसे अद्भुत मंदिर जिसके बारे में कहा जाता है कि इन्हें बाहरी दुनियाँ के लोगों (ऐलीयंस ) ने बनाया है!

पूरी दुनिया भर में लगभग 1,37 करोड़ हिन्दू/सनातन (Hindu/Sanatan) धर्म को मानने वालों की संख्या है और इस प्रकार हिंदू बाहुल्य देश में सनातन मंदिरों में से कुछ अत्यंत प्राचीन हैं। कई हिंदू मंदिर ऐसी शैलियों से बनाये गये हैं कि देखने वाले आश्चर्यचकित हो जाते हैं और दुनियाभर के कई आर्किटेक्ट इसे दूसरी दुनियाँ के सहयोग से बने होने की बात भी मानते हैं।

भारत के दस ऐसे अद्भुत मंदिर जिसके बारे में कहा जाता है कि इन्हें बाहरी दुनियाँ के लोगों (ऐलीयंस ) ने बनाया है!

1- कैलाशनाथ मंदिर, एलोरा

इस मंदिर को दुष्टों का संहार करने वाले भगवान शिव को समर्पित है। यह मंदिर महानता के प्रति एक श्रद्धांजलि है। इसके बावजूद हमारी शैक्षिक प्रणाली ने इतिहास के पाठ्यक्रम में इसे उचित स्थान नहीं दिया। यह अपने आस-पास की संरचनाओं के साथ सही अनुपात और संरेखण (Alignment) में तराशा गया था। जिसके सभी खंबे, फ्लाई ब्रिज, पत्थर के मेहराब, मूर्तियां और इमारतें पत्थर के एक ही टुकड़े से बने हैं।

2- चेन्नाकेशव मंदिर, कर्नाटक

यगाची नदी के तट पर स्थित, यह मंदिर होयसल काल की शुरुआती सर्वोत्तम कृति है। यह विजयनगर के शासकों द्वारा चोलों पर उनकी विजय को दर्शाने के लिए बनाया गया था। यह मंदिर पूरी तरह से विष्णु को समर्पित है। इस मंदिर में विष्णु के अधिकांश लाक्षणिक नक्काशी के पहलुओं को चित्रित किया गया है और यहां विशेष रूप से भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी को एक साथ स्थापित किया गया है।

3- आदि कुंभेश्वर, तमिलनाडु

भारत में स्थित कुंभकोणम को मंदिरों का नगर कहा जाता है। यहीं पर आदि कुंभेश्वर मंदिर स्थित है। यह मंदिर विजयनगर काल का है। आदि कुंभेश्वर मंदिर के प्रमुख देवता हैं और उनका पवित्र स्थान मंदिर के केंद्र में है। कुम्भेश्वर लिंगम (शिवलिंग) के रूप में हैं, जिनके बारे में माना जाता है कि भगवान शिव ने स्वयं अमृत को रेत में मिलाकर इसे बनाया था।

4- वरदराजा पेरुमल मंदिर, तमिलनाडु

वरदराजा पेरुमल मंदिर एक हिंदू मंदिर है, जो भगवान विष्णु के पवित्र शहर कांचीपुरम में स्थित है। माना जाता है कि विष्णु के 108 मंदिरों का 12 कवि संतों या अलवारों ने भ्रमण किया था, जिनमें से यह भी एक दिव्य देशम है। यह भी माना जाता है कि मंदिर की छत को सुशोभित छिपकलियों की मूर्तियों के स्पर्श मात्र से ही आपके पिछले जीवन के सारे पाप धुल जाते हैं।

5- कोणार्क सूर्य मंदिर, ओडिशा

इस मंदिर को 1250 ईस्वी के आस-पास पूर्वी गंग राजवंश के राजा नरसिम्ह देव प्रथम द्वारा बनवाया गया था। यह मंदिर, पत्थर के पहियों, स्तंभों और दीवारों के साथ एक विशाल रथ के आकार में है। इसकी संरचना का एक बड़ा हिस्सा अब खंडहर के रूप में है। यह मंदिर यूनेस्को के विश्व धरोहर स्थलों में भी शामिल है।

6- बादामी गुफा मंदिर, कर्नाटक

बादामी गुफा मंदिर, कर्नाटक के उत्तरी भाग में बगलकोट जिले के बादामी शहर में स्थित मंदिरों का एक परिसर है। इन्हें भारतीय रॉक-कट वास्तुकला, खासकर बादामी चालुक्य वास्तुकला का उदाहरण माना जाता है।

7- विट्ठल मंदिर, हम्पी, कर्नाटक

शायद यह मंदिर हम्पी परिसर के सभी मंदिरों में से सबसे अधिक लोकप्रिय है। यहां मशहूर म्युज़िकल पिलर्स हैं जिनमें से अद्भुत ध्वनि निकलती है। अंग्रेज इस ध्वनि का रहस्य जानना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने दो खंभे कटवा दिए, लेकिन उन्हें वहां खोखले खंभों के अलावा कुछ नहीं मिला। मंदिर की ओर जाने वाली सड़क पर कभी एक बाजार हुआ करता था, जहां घोड़ों का व्यापार किया जाता था।

आज भी हम सड़क के दोनों ओर बाजार के अवशेष देख सकते हैं। मंदिर में घोड़े बेचने वाले फारसियों की मूर्तियां अभी भी मौजूद हैं।

8- शोर मंदिर-महाबलीपुरम (तमिलनाडु)

यह मुख्य रूप से काफी प्राचीन मंदिर है और अपने नक्काशी के लिए काफी प्रसिद्ध है. मंदिरों के इस समूह को ग्रेनाइट क्लस्टर का नाम दिया गया था क्योंकि वे बंगाल की खाड़ी का सामना करते हैं और लगभग 700 A.D बनाए गए थे. मंदिर के डिजाइन की बात करे तो उस समय पारंपरिकता को परिभाषित करते हुए ये संरचनात्मक थे और रॉक-कट नहीं थे.

9- बृहदेश्वर मंदिर-तंजावुर-(तमिलनाडु)

यह प्रसिद्ध मंदिर, जो भगवान शिव को समर्पित है. तमिल वास्तुकला का एक भव्य उदाहरण है, जिसमें नक्काशीदार खंभे और प्रवेश द्वार के रूप में काम करने वाले बड़े द्वार हैं. तमिलनाडु के तंजावुर का वृहदेश्‍वर मंदिर पूरी तरह से ग्रेनाइट का बना है। पूरी दुनिया में यह पहला और इकलौता मंदिर है जो ग्रेनाइट का बना हुआ है। यह मंदिर अपनी भव्‍यता, वास्‍तुशिल्‍प और केंद्रीय गुंबद के चलते पर्यटकों को खासा आकर्षित करता है। यह मंदिर चोल काल के दौरान बनाया गया था और 1010 A.D में पूरा हुआ और अब यह यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है. ग्रेनाइट से निर्मित आंतरिक गर्भगृह के ऊपर सीधे टॉवर, दक्षिण भारत के सबसे ऊंचे स्थानों में से एक है.

10- जम्बुकेश्वर मंदिर-तिरुचि (तमिलनाडु)

भगवान् शिव को समर्पित, यह  मंदिर 1,800 साल पुराना है, और ये मंदिर पानी के तत्व का प्रतिनिधित्व करता है, यहाँ एक विशाल दीवार बाहर एक मील से अधिक दूरी तक फैली हुई है, और एक आंतरिक जगह में 700 से अधिक जटिल नक्काशीदार खंभे हैं.