अक्षय तृतीया - अनंत शुभता की शुरुआत

अक्षय तृतीया हिंदुओं के सबसे पवित्र और शुभ दिनों में से एक है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन जो कुछ भी शुरू होता है वह हमेशा विजयी होता है। इस प्रकार, यह दिन सौभाग्य, सफलता और भाग्य लाभ का प्रतीक है।इस लेख के माध्यम से जानिए अक्षय तृतीया कब मनाई जाती है? अक्षय तृतीया का इतिहास और अक्षय तृतीया के दौरान क्या अनुष्ठान करने चाहिए।

 0  67
अक्षय तृतीया - अनंत शुभता की शुरुआत

अक्षय तृतीया हिंदुओं के सबसे पवित्र और शुभ दिनों में से एक है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन जो कुछ भी शुरू होता है वह हमेशा विजयी होता है। इस प्रकार, यह दिन सौभाग्य, सफलता और भाग्य लाभ का प्रतीक है।

अक्षय तृतीया कब मनाई जाती है?

अक्षय तृतीया भारतीय माह वैशाख के शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाई जाती है। ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार यह अप्रैल-मई के महीने में आता है। यह इस दिन है कि सूर्य और चंद्रमा दोनों अपने ग्रहों में सबसे अच्छे माने जाते हैं। इस दिन को 'आखा तीज' के नाम से भी जाना जाता है।

अक्षय तृतीया का इतिहास

पौराणिक कथाओं और प्राचीन इतिहास के अनुसार, यह दिन कई महत्वपूर्ण घटनाओं को चिन्हित करता है

भगवान गणेश और वेद व्यास ने इसी दिन महाकाव्य महाभारत लिखना शुरू किया था।

इस दिन को भगवान विष्णु के छठे अवतार भगवान परशुराम की जयंती के रूप में भी मनाया जाता है।

इस दिन देवी अन्नपूर्णा का जन्म हुआ था।

इस दिन, भगवान कृष्ण ने अपने गरीब मित्र सुदामा को धन और मौद्रिक लाभ दिया, जो मदद के लिए उनके बचाव में आए थे।

महाभारत के अनुसार, इस दिन भगवान कृष्ण ने अपने वनवास के दौरान पांडवों को 'अक्षय पत्र' भेंट किए थे। उसने उन्हें इस कटोरे से आशीर्वाद दिया जो असीमित मात्रा में भोजन का उत्पादन करता रहेगा जो उन्हें कभी भूखा नहीं छोड़ेगा।

इस दिन गंगा नदी स्वर्ग से धरती पर अवतरित हुई थी।

इसी दिन कुबेर ने देवी लक्ष्मी की पूजा की थी और इस तरह उन्हें देवताओं के खजांची होने का काम सौंपा गया था।

अक्षय तृतीया के दौरान अनुष्ठान

विष्णु के भक्त इस दिन व्रत रखकर भगवान की पूजा करते हैं। बाद में गरीबों को चावल, नमक, घी, सब्जी, फल और कपड़े बांटकर दान किया जाता है। भगवान विष्णु के प्रतीक स्वरूप तुलसी का जल चारों ओर छिड़का जाता है।

पूर्वी भारत में, यह दिन आगामी फसल के मौसम के पहले जुताई के दिन के रूप में शुरू होता है। साथ ही, व्यवसायियों के लिए, अगले वित्तीय वर्ष के लिए एक नई ऑडिट बुक शुरू करने से पहले भगवान गणेश और देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है। इसे 'हलखता' के नाम से जाना जाता है।

इस दिन बहुत से लोग सोने और सोने के गहने खरीदते हैं। चूंकि सोना सौभाग्य और धन का प्रतीक है, इसलिए इस दिन इसे खरीदना पवित्र माना जाता है।

लोग इस दिन शादियों और लंबी यात्राओं की योजना बनाते हैं।

इस दिन नए व्यापारिक उद्यम और निर्माण कार्य शुरू किए जाते हैं।

अन्य अनुष्ठानों में गंगा में पवित्र स्नान करना, पवित्र अग्नि में जौ चढ़ाना और इस दिन दान और प्रसाद देना शामिल है।

भविष्य में सौभाग्य सुनिश्चित करने के लिए आध्यात्मिक गतिविधियों, ध्यान और पवित्र मंत्रों का जाप करना महत्वपूर्ण माना जाता है।

भगवान कृष्ण के भक्त इस दिन भगवान को चंदन का लेप लगाते हैं। माना जाता है कि ऐसा करने से व्यक्ति मृत्यु के बाद स्वर्ग में पहुंचता है।